Tuesday
Nov 21st
Text size
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
Click here to Enroll Prelims Test Series 2018

ब्रुसेल्स में आतंक

बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स के हवाई अड्डे और एक मेट्रां े स्टश्े ान पर हुए आतंकी हमले ने यरू ापे के साथ-साथ दुनिया के तमाम ताकतवर देशां े को एक बार फिर चुनौती दी है। इसे पेरिस हमले की दूसरी कड़ी माना जा रहा है। इस हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट यानी आइएस ने ली है।

कहा जा रहा है कि पेरिस हमले के आरोपी सालेह अब्दे सलाम की गिरफ्तारी की प्रतिक्रिया में उसने ब्रुसेल्स हमले को अंजाम दिया है। बु्रसेल्स में यूरोपीय संघ का मुख्यालय भी है। इस तरह यह हमला एक तरह से पूरे पश्चिमी देशां े को चुनौती है। पेरिस हमले के बाद अमेि रका, ब्रिटेन, फ्रांस आदि देशां े ने आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई का आव्हान किया था। मगर बु्रसेल्स पर हमला करके आइएस ने साबित कर दिया है कि आतंकवाद से निपटने के लिए जिस तरह की सुरक्षा व्यवस्था की जरूरत है, वह अभी तक नहीं हो सकी है।

कहा जा रहा है कि सीरिया और ईरान में मिल रही विफलता की वजह से हताश आइएस ने यरू ापे ीय देशां े मे ं अपना जाल फैलाना शुरू कर दिया है। वहा ं इस्लाम को मानन े वाल े युवका ें को आकर्षित करना और जिहाद के रास्ते पर ला खड़ा करना उसके लिए आसान है। इसलिए अब यह भी आशंका बढ़ती गई है कि पश्चिमी देशां े मे ं इस्लाम को मानन े वालो ं के खिलाफ नफरत के सुर कुछ तेज हा े सकते हैं। अमेि रका मे ं आतंकवाद से निपटने के नाम पर जिस तरह पूर े मुस्लिम समुदाय को शक की नजर से देखा जाने लगा है, वह प्रवृत्ति सारे यरू ापे ीय देशां े मे ं न फैल जाए इसलिए ब्रुसेल्स हमले के बाद सुरक्षा उपायो ं के मामल े मे ं संयम से काम लेन े की दरकार महसूस की जा रही है।

आइएस की बढ़ती ताकत से न सिर्फ यरू ापे ीय देशां े के माथे पर शिकन पैदा कर दी है, बल्कि भारत जैसे देशां े के लिए भी चुनौती पैदा हो गई है। पेरिस हमले के बाद यहां के गृहमंत्रालय ने कहा था कि आइएस को यहां किसी भी रूप में अपने पांव पसारने नही दिया जाएगा। मगर सवाल है कि आइएस कैसे ब्रुसेल्स के हवाई अड्डे की सुरक्षा व्यवस्था को भेद कर धमाके करने में कामयाब रहा। इसमें सुरक्षा संबंधी खामियां े पर विचार करने की जरूरत न सिर्फ बेल्जियम सहित तमाम यरू ापे ीय देशां े को है, बल्कि भारत जैसे देशां े को भी इससे सबक लेना चाहिए। फिर आइएस की आतंकी गतिविधियां े पर लगाम लगान े के लिए नए सिरे से विचार करने की जरूरत है।

यह बात छिपी नही ं है कि दुनिया के सारे देश आतंकवाद की निदं ा ता े करते हैं, पर आइएस की हरकतांे पर सभी एकजुट नही ं है। जब तक इसके लिए सारे राजनीतिक मतभेदो ं को भुला कर एकजुटता नही ं दिखाई जाती, इस चुनौती से पार पाना आसान नही ं हागे ा। इसके लिए इस्लामिक नेताओ ं को भी आगे लान े की जरूरत है, ताकि वे जिहाद के नाम पर चल रह े खून-खराब े की निदं ा करे। इससे आइएस की तरफ आकर्षित हाने े वाल े युवाओ ं को सही रास्ते पर चलने को प्रेरित किया जा सकता है। अगर ऐसा नही ं हागे ा ता े इस्लाम को मानन े वालो ं के प्रति शक और नफरत बढग़े ी ही और यह किसी भी रूप मे ं मानव समाज के लिए हितकर नही ं हागे ा। आइएस के संजाल को सिर्फ हथियारो ं के बल पर खत्म करने का दावा नही ं किया जा सकता, इसके लिए सामाजिक स्तर पर भी काम करने की जरूरत है।