Tuesday
Jan 28th
Text size
  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
Click here to Enroll Prelims Test Series 2018

स्वच्छ सर्वेक्षण 2017 में इंदौर शीर्ष पर

शहरी विकास मंत्री एम. वेंकैया नायडू द्वारा 4 मई, 2017 को स्वच्छ सर्वेक्षण 2017 का परिणाम जारी किया गया। स्वच्छ सर्वेक्षण 2017 के अनुसार मध्य प्रदेश का इंदौर शहर भारत का सबसे स्वच्छ शहर (Cleanest City) है।

सूची में शामिल 434 शहरों में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल दूसरे, आंध्र प्रदेश का विशाखापत्तनम तीसरे और गुजरात का सूरत चैथे पायदान पर है। इस स्वच्छता रैंकिंग में उत्तर प्रदेश का गोंडा सबसे अस्वच्छ शहर (dirtiest city) और महाराष्ट्र का भुसावल दूसरा सबसे अस्वच्छ शहर।

ज्ञातव्य है कि भारतीय गुणवत्ता परिषद (Quality Council of India - QCI) द्वारा संचालित 434 शहरों में हुए सर्वे में 50 अस्वच्छ शहरों में 25 शहर उत्तर प्रदेश से हैं। प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी उत्तर प्रदेश में तो शीर्ष स्थान पर है लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर 32 वें स्थान पर। इस सर्वे में ये बात सामने आई है कि स्वच्छता के मामले में बड़े शहरों में सुधार हो रहा है लेकिन छोटे शहरो में अभी भी धीमी प्रगति हुई है। देशभर में कराए गए सर्वे में शामिल 80 प्रतिशत से अधिक लोगों ने माना है कि स्वच्छ भारत अभियान चलाए जाने के बाद से उनका क्षेत्र पिछले वर्ष की तुलना में अध्कि स्वच्छ हुआ है।

देश के शीर्ष 10 स्वच्छ शहर

रैंकिंग शहर रैंकिंग

2017 2016 2014

1 इंदौर (मध्य प्रदेश) 25 149

2 भोपाल (मध्य प्रदेश) 21 105

3 विशाखापट्टनम (आंध्र प्रदेश) 5 205

4 सूरत (गुजरात) 6 63

5 मैसूरू (कर्नाटक) 1 1

6 तिरुचिरापल्ली (तमिलनाडु) 3 2

7 नई दिल्ली निगम परिषद क्षेत्र (NDMC)दिल्ली 4 15

8 नवी मुंबई (महाराष्ट्र) 12 3

9 तिरुपति (आंध्र प्रदेश) सर्वेक्षण नहीं 137

10 वड़ोदरा (गुजरात) 13 214

इस सूची में चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, झारखंड, कर्नाटक, सिक्किम और उत्तर प्रदेश से 1-1 शहर शामिल हैं। शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने नई दिल्ली में 2017 की स्वच्छता सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि स्वच्छता में सुधार के कारण भारत यात्रा और पर्यटन स्पर्धा सूचकांक में 12 स्थान ऊपर आ गया है।

सर्वे के शीर्ष 50 स्वच्छ शहरों में गुजरात के सर्वाधिक 12 शहर हैं। इसके बाद मध्य प्रदेश के 11 और आंध्र प्रदेश के 8 शहर, तमिलनाडु और तेलंगाना के 4-4 शहर शीर्ष 50 स्वच्छ शहरों में शामिल हैं।

पश्चिम बंगाल ने स्वच्छता सर्वेक्षण 2017 में भाग नहीं लिया और स्वच्छता सर्वेक्षण 2017 मोदी सरकार के फ्लैगशिप कार्यक्रम स्वच्छ भारत अभियान (SBA) का एक हिस्सा है जिसके तहत 2 अक्टूबर, 2019 तक ‘स्वच्छ भारत’ की परिकल्पना को साकार करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस तरह का पहला सर्वेक्षण वर्ष 2014 में जारी किया गया था।

 
ASK Your Query

डेली डोज